Sale!

PYGO-9 Ayurvedic Medicine for Piles

(21 customer reviews)

599

With Free Shipping

Combo Pack of:

  • 3 Bottles x 24 PYGO-9 Capsules: 72 Capsules
  • 3 Bottles x 20 GM SEHAZ Laxative Granules: 60 Gram
  • 2 Tubes x 25 GM PYGO-9 Hemorrhoids Ointment/ Malhum: 50 GM

Solves Pain, Itching, Burning Sensation, and Swelling due to Hemorrhoids

 

Pygo-9 Ayurvedic Medicine for Piles or Ayurvedic Piles Medicine contains judiciously chosen medicinal herbs, extracts, and purified bhasams for the treatment of piles or hemorrhoids. Herbs, such as retha, kachur, shudh resont, moch rasa, neem seeds, shudh guggal, shudh sankha, shudh sphatika, triphala. In fact, Pygo-9 ayurvedic piles medicine contains 100% natural ingredients processed under strict quality standards to ensure purity and efficacy.

pygo 9 capsule a content amazon scaled Dr. Asma Herbals

What are the symptoms of Piles? – Ayurvedic Medicine for Piles

Common symptoms include irritation or pain at passing stools, bleeding, feelings of sourness, and painful swelling around the rectal region.

What are the causes of piles? – Ayurvedic Medicine for Piles

  1. Chronic Constipation.
  2. Eat spicy food or a low-fiber diet.
  3. Working hard.
  4. A prolonged period of sitting or standing.
  5. during pregnancy and after delivery.
  6. Mental tension and hereditary.
  7. Bowel disorders.

Ayurvedic Expert CP Singh Chawla (B.Sc. Medical, D. Pharma Ayurvedic) has provided the Best Piles/ Bawaseer Treatment Guide for the Treatment of Piles at home. which will treat piles even if it is a year old Bavasir.

In This guide, Ayurvedic Expert CP Singh Chawla Ji has been able to provide relief to more than 1,00,000+ Piles Patients in the last 10 years. He says not to take shortcuts in this treatment course because it may not provide results as thought. There were also some patients who were on the verge of going to the hospital for Surgical removal of Hemorrhoids.

But after this treatment guide, they were so happy as the hemorrhoids receded by the application of ointment he has researched and formulated. Even if you go for surgeries, it has a low success ratio. The external piles may grow again if not properly taken care of. For that, this treatment will help you a lot.

Ayurvedic Expert CP Singh Chawla Ji is providing a free-of-cost guide for Hemorrhoids problems without any monetary benefits. So that, it can help patients which are deep problems with Piles.

SIGNS AND SYMPTOMS OF PILES

6 scaled Dr. Asma Herbals

The first signs in this guide for the treatment of Piles are irritation or pain at passing stool, bleeding, the feeling of sourness, and painful swelling around the rectal region. If you are feeling that there is a lump coming outside your anus then, it means it is Hemorrhoidal Piles. If there is blood coming out from the lump, then it means it is Bleeding Piles. The lump usually comes out when you apply hard pressure when passing out the stool (Bowel Evacuation).

7 scaled Dr. Asma Herbals

The rupture of veins of the Anal Sphincter muscle causes the lump. If there is an increase in the size of the lump, this means there is the formation of Pus inside the lump which results in pain and difficulty to sit for a longer time. To prevent piles from getting bigger or to cure old piles you need to follow these steps on an immediate basis:

STEPS THAT YOU NEED TO FOLLOW FOR TREATMENT OF PILES

STEP 1: IMMEDIATELY STOP THESE ACTIVITIES

 hemorrhoidal Bleeding Piles Man sitting on toilet with toilet paper

  1. Avoid putting pressure during bowel evacuation & sitting on the toilet for more than 5-7 minutes (if you put more pressure during bowel movement, it may rupture the veins thus worsening the situation).
  2. Having spicy food or a low-fiber diet.
  3. Prevent hands from Itching as it may worsen the problem of Piles
  4. Prolong period of sitting or standing.
  5. Avoid the intake of unhealthy spicy, fried, crispy, dry, and stale food.
  6. Avoid heavy foods which are difficult to digest such as Maida, Burgers, Pizza, and Kulchas.

STEP 2: WHAT YOU NEED TO DO

Start following Dr. Asma Herbal’s Ayurvedic Piles Medicine Treatment Healing Process.

PROCESS 1: INTERNAL HEALING

SOLUTION: You need to heal the veins which are ruptured during bowel movements. So that we can further prevent the damage. The lump formed during this Piles problem can be healed with the help of Pygo-9 Ayurvedic Piles Medicine Ointment Massa nashak malhum. This ointment with heal the ruptured veins and cuts inside the anus. Furthermore, this Pygo-9 Ayurvedic Medicine for Piles Treatment shall shrink the lumps, heal the swelling and soothe the pains.

pygo tube ointment OCT 2022 Dr. Asma Herbals

SHOP PYGO-9 AYURVEDIC PILES MEDICINE COMBO PACK OF 72 CAPSULES + 60 GRAM CONSTIPATION POWDER + 50 GRAM HEMORRHOIDAL CREAM

buy now button logo

PROCESS 2: HEALING THE BODY WITHIN

SOLUTION: You need to heal the internal metabolism which will help to soften the bowel, increase the digestion, and relaxes the intestine from the bowel pressure. This will help in proper blood circulation around the rectum and external anal area. It will also heal internal inflammation and soreness of organs.

Pygo 9 ayurvedic capsules for piles bawaseer Dr. Asma Herbals

SHOP PYGO-9

AYURVEDIC PILES MEDICINE

COMBO PACK OF 72 CAPSULES + 60 GRAM CONSTIPATION POWDER + 50 GRAM HEMORRHOIDAL CREAM

buy now button logo

PROCESS 3: DISINFECTING ANAL AREA (Sitz Bath)

SOLUTION: The solution for disinfecting the anal area is to stop the infections caused by Pus in the lumps. Which further invites bacterial growth and other infection. There is a very simple remedy for this is to buy Potassium Permanganate (KMnO4). You can buy this from any Medical or General Store for Rs. 30/- to 50/-. For Immediate relief, it is advisable to sit in the hot bathtub for 10-15 minutes daily two times a day by adding a spoon full of  Phatkari/Salt/Baking Soda with 2-3 spoons of vinegar or add a few granules of Potassium Permanganate (BUY ON AMAZON) in water or just wash the anal area with Phatkari water.treatment for piles Sitz Bath infographic

बवासीर रोगी के लिए डाइट प्लान:क्या खाएं और क्या न खाएं

बवासीर से पीड़ित रोगी को क्या खाना चाहिए: Food to eat in piles (bawaseer) in hindi

बवासीर से पीड़ित रोगी को अपने आहार में उच्च फाइबर का सेवन करना चाहिए। फाइबर मल में बल्क बनाता है और कठोर मल से राहत देता है।फाइबर शरीर के अंदर पाचन तन्त्र को संतुलित बनाए रखता है जिससे कब्ज जैसी समस्या नही होती|  बवासीर में हमें गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं को रोकने के लिए तेल और मसालेदार भोजन के सेवन नहीं करना चाहिए।

*लाभकारी सब्जियां– बवासीर रोगी को पत्तेदार सब्जियों या हरी सब्जियों का सेवन करना फायदेमंद रहता है। अगर नियमित रूप से शिमला मिर्च, लौकी, करेला, गाजर, कद्दू, मूली, खीरा और पालक का सेवन किया जाए तो इनके अंदर का फाइबर शरीर में जठराग्नि को मजबूत बनाए रखता है जिससे आपको कब्ज और गैस जैसी परेशानी नही होती है|

*अनाज भी है उपयोगी–  आधुनिक शोध के अनुसार अनाज के अंदर काफी मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो बवासीर जैसी गम्भीर बीमारी को दूर करने में सहायक साबित होता है| इसलिए आप दलिया, चावल, जौं, और गेहूं को वैद्य के परामर्शानुसार सेवन कर सकते हैं|

*इन फलों का करें सेवन– आयुर्वेद में बवासीर रोगी को सबसे पहले फाइबर युक्त पदार्थों का सेवन करने की सलाह दी जाती है| ऐसे ही कुछ फल जैसे केला, सेब, खरबूजा, नाशपाती में भरपूर फाइबर पाया जाता है, इनका रोजाना सेवन शरीर में आपके खाने को पचाने का काम करता है|

*महत्वपूर्ण पेय पदार्थ– बवासीर रोगी अगर गाजर, शलगम और पालक का मिश्रण करके जूस का सेवन करे तो उसको काफी फायदा मिल सकता है| यह पेय पदार्थ रोगी की पाचन शक्ति को संतुलित बनाए रखते हैं जिससे उसकी बीमारी धीरे-धीरे खत्म होनी शुरू हो जाती है|

*ये दालें भी हैं फायदेमंद– सब्जियों और फलों के अलावा कुछ दालें भी हैं जिनके अंदर काफी मात्रा में फाइबर पाया जाता है, इनमें सबसे उपयोगी उड़द की दाल, सोयाबीन, काबली चना होते हैं| इनका उचित मात्रा में सेवन पाचन क्रिया को संतुलित रखता है, जिससे बवासीर जैसी पीड़ादायक बीमारी खत्म होने लगती है|

SHOP PYGO-9

AYURVEDIC PILES MEDICINE

COMBO PACK OF 72 CAPSULES + 60 GRAM CONSTIPATION POWDER + 50 GRAM HEMORRHOIDAL CREAM

buy now button logo

बबासीर रोगी के लिए डाइट प्लान : Diet Plan for Piles (bawaseer) Patients in hindi

ऐसे कर सकते है आप अपनी दिनचर्या की शुरुवात

  • सुबह-सुबह गर्म पानी + 1 छोटा चम्मच अलसी/एलोवेरा जूस/ व्हीटग्रास जूस
  • नाश्ता- वेज इडली / वेज सेवइयां (सेंवई) / वेज उपमा (सूजी) / वेज दलिया (टूटा हुआ गेहूं दलिया) / ओट्स / मिस्सी रोटी / भरवां चपाती / सब्जी या दाल के साथ चपाती
  • मध्य सुबह- नारियल पानी/हर्बल चाय/फलों का रस/फल/नारियल का दूध/नींबू पानी/प्रून जूस
  • लंच- सब्जी के साथ चपाती/ब्राउन राइस + दाल/चिकन (सप्ताह में एक बार)
  • शाम- सेंवई/घर का बना सूप/भुना हुआ चने/हरी चाय/हर्बल चाय/अंकुरित
  • रात का खाना- चपाती + सब्जी + दाल

बवासीर रोगी इन खाद्य पदार्थों से बनाए दूरी:- Food to avoid  in bawasheer (Piles)  in  hindi

जब व्यक्ति के शरीर में पाचन क्रिया असंतुलित हो जाती है तो वह कब्ज और गैस जैसी समस्याओं से परेशान हो जाता है| जो आगे चलकर बवासीर एक असहनीय बीमारी का रूप ले लेती हैं, यहाँ हम आपको कुछ ऐसे ही खाद्य पदार्थों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके सेवन से बचना बहुत जरूरी है|

  1. अगर आपको बवासीर बीमारी को खत्म करना है तो मांसाहारी आहार का सेवन बिल्कुल बंद करना होगा|
  2. रोगी भूलकर भी न करें पनीर और चीस का सेवन।
  3. आइसक्रीम और कोल्डड्रिंक को उपयोग भी हानिकारक|
  4. बवासीर रोगी को फास्ट फूड और तले हुए पदार्थों का सेवन कभी नही करना चाहिये।
  5. डिब्बा बंद खाने के सेवन से बचें|
  6. सब्जी बनाते समय कभी न करें लाल मिर्च का प्रयोग|

बवासीर से ग्रसित व्यक्ति इन बातों का रखे ध्यान:

वर्तमान समय के खराब आहार और अनुचित दिनचर्या ने व्यक्ति की जठराग्नि क्षमता को बहुत कमजोर बना दिया है| आज हर कोई फ़ास्ट फ़ूड और तले हुए खाद्य पदार्थों का दीवाना है परन्तु ये सभी लोग इस बात को नही जानते कि यही खाना शरीर के अंदर आपकी पाचन क्रिया को खराब करता है| जिससे आप बवासीर जैसी पीड़ादायक बिमारियों से ग्रसित हो जाते हैं, इसलिए रोगी आयुर्वेदिक उपचार के साथ उचित खान-पान और दिनचर्या में परिवर्तन जरुर कर लें|

  1. दिन में कम से कम तीन से चार बार खाना खाएं।
  2. हमेशा अपने आप को खुश रखें और नकारात्मक सोच से दूर रहें|
  3. भोजन के एक घंटे पहले या एक घंटे बाद ही पानी का सेवन करें|
  4. हमेशा सूर्यादय होने से पहले उठें|
  5. सुबह और शाम कम से कम 2 किलोमीटर पैदल चलें|

बवासीर रोगी आसन और प्राणायाम को दे दिनचर्या में महत्वपूर्ण स्थान:-

अगर आप बवासीर से पीड़ित हैं तो आपको आयुर्वेदिक उपचार और उचित आहार के साथ योग, आसन और प्राणायाम को भी जीवन में आवश्यक स्थान देना होगा| ये आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के साथ-साथ बवासीर जैसी असहनीय बीमारी को दूर रखने में भी सहायक साबित होते हैं|

  1. मत्स्यासन का प्रयोग फायदेमंद– इस स्थिति में आपका शरीर मछली की तरह हो जाता है, यह आसन पेट के अनेक रोगों को दूर करने के अलावा बवासीर को भी खत्म करने में सहायक साबित होता है|
  2. भुजंगासन लाभकारी– इस आसन की स्थिति में व्यक्ति का शरीर सांप के जैसा नज़र आता है, इसका नियमित उपयोग बवासीर को जड़ से खत्म कर देता है|
  3. सूर्यादय से पहले उठकर सूर्यनमस्कार करने से भी रोगी को काफी लाभ मिल सकता है|
  4. धनुरासन के अनेक फायदे– इस आसन में व्यक्ति का शरीर धनुष जैसा दिखने लगता है, बवासीर रोगी इस आसन के द्वारा बीमारी को जल्दी से जल्दी दूर कर सकता है|
  5. इसके अलावा अनुलोम विलोम, गोमुखासन और सर्वांगासन का रोजाना प्रयोग भी पाचन क्रिया को दुरुस्त बनाए रखता है|

पाइल्स में डाइट प्लान एक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है पर डाइट चार्ट एक रोगी से दूसरे रोगी में उनके चिकित्सा मानकों के अनुसार भिन्न हो सकते हैं। कोई भी डाइट प्लान को इस्तेमाल से पहले आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह जरूर ले।

In conclusion, if you’re also suffering from constipation, use Sehaz Kabaz nashak churan manufactured by Dr. Asma Herbals.

What is Sitz (Hip) Bath to heal the soreness of the rectal inflammation?

For immediate relief, it is advisable to sit in a hot bathtub for 10-15 minutes daily two times a day. Then, by adding a spoon full of Phatkari/salt/baking soda with 2-3 spoons of vinegar. Also, you can add a few granules of potassium permanganate in water or just wash the anal area with Phatkari water.

What diet should I take if I have piles?

The patient should have a high-fiber diet, pulses, milk, curd, porridge, green vegetables, fruits, and green salads. Also, It is recommended to drink 8-10 glasses of water daily. For better results, take 100 grams of grated white radish mixed with one teaspoon of honey 2-3 times a day.

What food should be avoided when suffering from piles?

Mirch masala, fried food, pizza, burger, noodles, pickles, rice, eggs, meat, wine, cigarette, and sauce. Also, avoid continuous sitting, or driving a scooter, bike, or car.

What is the dose for the treatment of piles by using Pygo-9? Pygo 9 Uses in Hindi

Pygo-9 ayurvedic capsules for piles should be taken with two capsules or thrice a day with cold milk or water for 7-10 days. Also, for early and better results, use a half or a full teaspoon of Sehaz herbal kabz nashak churan along with Pygo-9 ayurvedic capsules. In fact, for the complete benefit, continue the treatment for a minimum of 4-8 weeks. In the case of bleeding hemorrhoids, use 2 capsules of white butter without salt thrice a day.

BUY PYGO-9

AYURVEDIC PILES MEDICINE

COMBO PACK OF 72 CAPSULES + 60 GRAM CONSTIPATION POWDER + 50 GRAM HEMORRHOIDAL CREAM

buy now button logo

Share your thoughts!

4.53 out of 5 stars

21 reviews

Let us know what you think...

0 reviews with a 4-star rating

There are no reviews with a 4-star rating yet

×

Login

Register

A link to set a new password will be sent to your email address.

Your personal data will be used to support your experience throughout this website, to manage access to your account, and for other purposes, as described in our privacy policy.

Continue as a Guest

Don't have an account? Sign Up

front image of pygo-9 piles medicinePYGO-9 Ayurvedic Medicine for Piles
599

Fill in your details to contact you on WhatsApp!

Whatsapp whatsapp