Uri Nashak Ayurvedic Capsules

(3 customer reviews)

300

Category:

Dr. Asma Herbals, Amritsar backed with huge industry experience manufactures Uri Nashak Ayurvedic Capsules. Firstly, it is an effective ayurvedic medicine for the control of Uric Acid. Secondly, it helps in removing the toxins from the body. Thirdly, the muscles & provides comfortable movement of joints. Moreover, it also helps the patient from pain, swelling & heating sensation of joints. Furthermore, it also balances the excess Vata (Air) & Pitta (Fire) in the body.

उद्योग के विशाल अनुभव के साथ डॉ. अस्मा हर्बल्स, अमृतसर  उरी नाशक आयुर्वेदिक कैप्सूल बनाती है।सबसे पहले, यह यूरिक एसिड के नियंत्रण के लिए एक प्रभावी आयुर्वेदिक दवा है। दूसरे, यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करता है। तीसरा, मांसपेशियां और जोड़ों की आरामदायक गति प्रदान करती हैं। इसके अलावा, यह रोगी को जोड़ों के दर्द, सूजन और गर्माहट की अनुभूति से भी मदद करता है। इसके अलावा, यह शरीर में अतिरिक्त वात (वायु) और पित्त (अग्नि) को भी संतुलित करता है। एक उच्च प्यूरीन आहार कई चीजों में से एक है जो गाउट हमले को ट्रिगर कर सकता है। हमले को ट्रिगर करने से बचने के लिए उच्च प्रोटीन खाद्य पदार्थों को सीमित या बचें। बाद में गाउट यह लंबे समय तक हमलों और पहले एक की तुलना में अक्सर होते हैं । स्वस्थ यूरिक एसिड नियंत्रण स्तर को स्वाभाविक रूप से बनाए रखने में मदद करता है । यूरिक एसिड आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों शुद्ध यह इस प्रकार यूरिक एसिड के उचित स्तर को बनाए रखने के शरीर से विषाक्त पदार्थों को दूर करने में मदद करता है। यह जोड़ों को फिर से जीवंत करता है, जोड़ों के शरीर, सूजन, कठोरता और हीटिंग सनसनी को राहत प्रदान करता है।

TEchnical guidance

Ayurevd Expert
CP SINGH CHAWLA
B.Sc. Medical D. Pharma

1 month course at just Rs. 295/- (M.R.P)

60 capsules pack

URI NASHAK AYURVEDIC CAPSULE URIC ACID CONTROL GOUT ARTHRITIS DR ASMA HERBALS AMRITSAR

13 hERBs formula

Amrita (Guduchi), Shudh Guggal, Gokhru, Punarnava, Trifla churan, Munditaka, Gokhru, Dantimool, Nagarmotha, Trivrt, Chireta, Sarpankha, Trikuta.

Formulated since 1972

This Product was first formulated by Vaid Parduman Singh ji.

About Uri Nashak Ayurvedic Capsules

Product Presence

1000 +
units sold
0 +
years of Research & development
5 +
years of expertise IN AYURVEDA


What is uric acid?

Uric acid is a chemical waste product created when the body breaks down proteins. A higher level of uric acid causes actual inflammatory arthritis in joints. Such as the wrist, heel, knees, fingers, toe. Other symptoms include fatigue, high fever, and sometimes kidney stones also.

Also, Gout is a painful & inflammatory condition in which uric acid starts to solidify in crystal areas like – Joints, the skin near the joints knee, the outer ear, and the kidneys.

What are the causes of a higher level of uric acid?

  • Unbalanced Diet & High Consumption of alcohol.
  • Take high fructose-sweetened drinks and table sugar.
  • Fasting and rapid weight loss can lead to an increase in uric acid.
  • High intake of Red Meat, seafood, Pork, Lamb, Beef, and beer.
  • Reduction in the excretion process by the kidneys.
  • Using thiazide diuretics and anti-diabetic medicines.
  • Post cancer treatment.
  • The normal range of uric acid:-3.5 to 7.2 mg/dl in men and 2.5 to 6 mg/dl in women.

What are the uses of Uri Nashak Ayurvedic Capsules?

  • To begin with, it helps in eliminating waste products from the body.
  • Subsequently, it reduces the pain in the joints like – the wrist, heel, toe, fingers, knees, etc.
  • Thirdly, it controls and balances the high level of uric acid in the body.
  • After this, it increases the capability of the kidneys. So that uric acid can be eliminated easily.
  • As a final point, it also helps to eliminate the crystals of high-level uric acid from the body.

What is the dose for Uric Acid Medicine?

Take 2 capsules in the morning and night with water or as directed by the physician.

What is the special advice for the Uric Acid problems?

  • Accordingly, drink as much water as you can (3-5 litres per day).
  • And so, use a high fibre diet, olive oil, and vinegar.
  • Therefore, take plenty of fruits, vegetables, and cereal products.
  • Thus, regular exercise with morning and evening walks.
  • With this in mind, maintain body weight.

Things to avoid, if you have High Uric Acid:

  • Firstly, avoid alcohol, beer, cold drink, packed juices, and fatty products.
  • Secondly, red meat, seafood, fatty fish, pork, lamb, and beef. Thirdly, avoid bakery and fried products.
  • Moreover, use these products in your diet in minimum quantities like pulses, kidney beans, spinach, tomato, cauliflower, mushrooms, peas, ladyfinger, cheese, and fried rice.

अगर आपको हाई यूरिक एसिड है तो इन चीजों से परहेज करें:

  • सबसे पहले, शराब, बीयर, कोल्ड ड्रिंक, पैक्ड जूस और वसायुक्त उत्पादों से बचें।
  • दूसरे, रेड मीट, सीफूड, फैटी फिश, पोर्क, लैंब और बीफ। तीसरा, बेकरी और तले हुए उत्पादों से बचें।
  • इसके अलावा, इन उत्पादों को अपने आहार में कम से कम मात्रा में उपयोग करें जैसे दालें, राजमा, पालक, टमाटर, फूलगोभी, मशरूम, मटर, भिंडी, पनीर और तले हुए चावल।

अर्थराइटिस से ग्रसित इंसान ऐसा रखे अपना डाइट चार्ट:-

हम आपको अर्थराइटिस बीमारी में उपयोग किये जाने वाले आहार की जानकारी देने वाले हैं, इसमें रोगी के लक्षण और कारणों को जानकर परिवर्तन भी किया जा सकता है| इसलिए इसके उपयोग से पहले किसी वैद्य से सलाह अवश्य कर लें|

* सुबह उठते ही एक गिलास गुनगुने पानी में एक नींबू का रस मिलाकर रोजाना सेवन करें|
* नाश्ते में आप दो फुल्का रोटी हरी सब्जी के साथ या भुना हुआ एक अंडा बिना जर्दी के, बेसन का एक चिला बनाकर या फिर रोजाना एक उबला हुआ अंडा बिना जर्दी के सेवन कर सकते हैं|
* दिन में 11 से 12 के बीच में आप अनानास, सेब, और चेरी जूस के रूप में या फिर काट कर खा सकते हैं, इसके अलावा दही के साथ एक कटोरी रात को भिगोए हुए काले चने का उपभोग भी कर सकते हैं| अगर ये सब न मिले तो देसी गाय का दूध हल्का गर्म रोजाना सेवन करना फायदेमंद रहता है|
* दोपहर के समय में अर्थराइटिस रोगी एक कटोरी हरी सब्जी के साथ 2 रोटी, थोड़े से चावल और सलाद का सेवन कर सकता है|
* शाम को इस बीमारी से परेशान व्यक्ति एक कप दही, देसी गाय के दूध की चाय के साथ दो बिस्किट या फिर एक गिलास दूध के साथ 2 से 3 अखरोट खा सकता है|
* रात के भोजन में आप हरी लौकी की सब्जी, 2 से 3 रोटी या फिर बीन्स की सब्जी के साथ जौ की रोटी का सेवन कर सकते हैं|

ध्यान देने योग्य बातें:–

निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखकर आप अर्थराइटिस या गठिया रोग से बच सकते हैं|

* इस बीमारी के रोगी रोजाना 7 से 8 घंटे की नींद जरुर पूरी करें।
* हमेशा तनाव मुक्त रहें और खुश रखने की कोशिश करें|
* हमेशा कोशिश करें कि एक ही स्थिति में खड़े या बैठे न रहें।
* सूर्योदय से पहले उठकर 3 से 4 किलोमीटर चलें|
* दिनचर्या में व्यायाम को महत्वपूर्ण स्थान दें|
* ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन करें|
* भोजन पकाने में जैतून के तेल का उपयोग करें|

इन खाद्य पदार्थों के सेवन से बचें:–

अर्थराइटिस से परेशान व्यक्ति अगर निम्नलिखित खाद्य पदार्थों के सेवन से दूर रहे तो अच्छा रहता है|

* नमक का उपयोग हमेशा खाने में कम करें|
* लाल मांस और सी फूड के सेवन से बचना चाहिये|
* घी का उपयोग हमेशा वैद्य की सलाह लेकर करें|
* शरीर में इंसुलिन की मात्रा संतुलित बनाए रखें|
* डेयरी उत्पाद या फिर डिब्बाबंद खाने का सेवन भूलकर भी न करें|
* शराब, धूम्रपान और नशीले पदार्थों से दूरी बनाएं|

अर्थराइटिस या गठिया को दूर करने के कुछ घरेलू उपाय:-

  • लहसुन का सेवन लाभकारी – अगर सुबह खाली पेट लहसुन की 2 से 3 कलियाँ सेवन कर ली जाए तो यह प्रयोग रक्त विकारों के अलावा गठिया दर्द को दूर करने में सहायक साबित होता है|
  • नींबू पानी फायदेमंद – आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इसके अंदर एंटीवायरल और एंटी फंगल गुण पाए जाते हैं जो शरीर में वात दोष को संतुलित बनाए रखते हैं| गठिया रोगी अगर रोजाना एक गिलास गुनगुने पानी में एक नींबू का रस मिलाकर सेवन करे तो बहुत फायदा मिलता है|
  • एलोवेरा भी असरदार औषधि – आयुर्वेद में एलोवेरा को त्वचा रोगों की रामबाण औषधि माना गया है| अगर गठिया से परेशान व्यक्ति दर्द वाली जगह पर रोजाना इसका इस्तेमाल करे तो काफी जल्दी आराम पहुंचता है|
  • अश्वगंधा चूर्ण के अनेक फायदे – इस औषधि को आयुर्वेद में हड्डियों को मजबूती प्रदान करने के लिए जाना जाता है| सुबह और शाम एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण को देसी गाय के दूध के साथ सेवन करने से गठिया की समस्या जल्दी दूर हो जाती है|
  • तिल का तेल रामबाण – अर्थराइटिस रोगी के लिए यह तेल रामबाण माना जाता है| इसका उचित प्रयोग हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है और आप गठिया जैसी बीमारी से बचे रहते हैं|

Note: Also, use our Dardorest Oil And Spray  for muscle and Joint Pains.

Uri Nashak Medicine on Amazon 

Ingredients

Dr. Asma Herbals, Amritsar backed with huge industry experience manufactures Uri Nashak Ayurvedic Capsules. Firstly, it is an effective ayurvedic medicine for the control of Uric Acid. Secondly, it helps in removing the toxins from the body. Thirdly, the muscles & provides comfortable movement of joints. Moreover, it also helps the patient from pain, swelling & heating sensation of joints. Furthermore, it also balances the excess Vata (Air) & Pitta (Fire) in the body.

उद्योग के विशाल अनुभव के साथ डॉ. अस्मा हर्बल्स, अमृतसर  उरी नाशक आयुर्वेदिक कैप्सूल बनाती है।सबसे पहले, यह यूरिक एसिड के नियंत्रण के लिए एक प्रभावी आयुर्वेदिक दवा है। दूसरे, यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करता है। तीसरा, मांसपेशियां और जोड़ों की आरामदायक गति प्रदान करती हैं। इसके अलावा, यह रोगी को जोड़ों के दर्द, सूजन और गर्माहट की अनुभूति से भी मदद करता है। इसके अलावा, यह शरीर में अतिरिक्त वात (वायु) और पित्त (अग्नि) को भी संतुलित करता है। एक उच्च प्यूरीन आहार कई चीजों में से एक है जो गाउट हमले को ट्रिगर कर सकता है। हमले को ट्रिगर करने से बचने के लिए उच्च प्रोटीन खाद्य पदार्थों को सीमित या बचें। बाद में गाउट यह लंबे समय तक हमलों और पहले एक की तुलना में अक्सर होते हैं । स्वस्थ यूरिक एसिड नियंत्रण स्तर को स्वाभाविक रूप से बनाए रखने में मदद करता है । यूरिक एसिड आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों शुद्ध यह इस प्रकार यूरिक एसिड के उचित स्तर को बनाए रखने के शरीर से विषाक्त पदार्थों को दूर करने में मदद करता है। यह जोड़ों को फिर से जीवंत करता है, जोड़ों के शरीर, सूजन, कठोरता और हीटिंग सनसनी को राहत प्रदान करता है।

TEchnical guidance

Ayurevd Expert
CP SINGH CHAWLA
B.Sc. Medical D. Pharma

1 month course at just Rs. 295/- (M.R.P)

60 capsules pack

URI NASHAK AYURVEDIC CAPSULE URIC ACID CONTROL GOUT ARTHRITIS DR ASMA HERBALS AMRITSAR

13 hERBs formula

Amrita (Guduchi), Shudh Guggal, Gokhru, Punarnava, Trifla churan, Munditaka, Gokhru, Dantimool, Nagarmotha, Trivrt, Chireta, Sarpankha, Trikuta.

Formulated since 1972

This Product was first formulated by Vaid Parduman Singh ji.

About Uri Nashak Ayurvedic Capsules

Product Presence

1000 +
units sold
0 +
years of Research & development
5 +
years of expertise IN AYURVEDA


What is uric acid?

Uric acid is a chemical waste product created when the body breaks down proteins. A higher level of uric acid causes actual inflammatory arthritis in joints. Such as the wrist, heel, knees, fingers, toe. Other symptoms include fatigue, high fever, and sometimes kidney stones also.

Also, Gout is a painful & inflammatory condition in which uric acid starts to solidify in crystal areas like – Joints, the skin near the joints knee, the outer ear, and the kidneys.

What are the causes of a higher level of uric acid?

  • Unbalanced Diet & High Consumption of alcohol.
  • Take high fructose-sweetened drinks and table sugar.
  • Fasting and rapid weight loss can lead to an increase in uric acid.
  • High intake of Red Meat, seafood, Pork, Lamb, Beef, and beer.
  • Reduction in the excretion process by the kidneys.
  • Using thiazide diuretics and anti-diabetic medicines.
  • Post cancer treatment.
  • The normal range of uric acid:-3.5 to 7.2 mg/dl in men and 2.5 to 6 mg/dl in women.

What are the uses of Uri Nashak Ayurvedic Capsules?

  • To begin with, it helps in eliminating waste products from the body.
  • Subsequently, it reduces the pain in the joints like – the wrist, heel, toe, fingers, knees, etc.
  • Thirdly, it controls and balances the high level of uric acid in the body.
  • After this, it increases the capability of the kidneys. So that uric acid can be eliminated easily.
  • As a final point, it also helps to eliminate the crystals of high-level uric acid from the body.

What is the dose for Uric Acid Medicine?

Take 2 capsules in the morning and night with water or as directed by the physician.

What is the special advice for the Uric Acid problems?

  • Accordingly, drink as much water as you can (3-5 litres per day).
  • And so, use a high fibre diet, olive oil, and vinegar.
  • Therefore, take plenty of fruits, vegetables, and cereal products.
  • Thus, regular exercise with morning and evening walks.
  • With this in mind, maintain body weight.

Things to avoid, if you have High Uric Acid:

  • Firstly, avoid alcohol, beer, cold drink, packed juices, and fatty products.
  • Secondly, red meat, seafood, fatty fish, pork, lamb, and beef. Thirdly, avoid bakery and fried products.
  • Moreover, use these products in your diet in minimum quantities like pulses, kidney beans, spinach, tomato, cauliflower, mushrooms, peas, ladyfinger, cheese, and fried rice.

अगर आपको हाई यूरिक एसिड है तो इन चीजों से परहेज करें:

  • सबसे पहले, शराब, बीयर, कोल्ड ड्रिंक, पैक्ड जूस और वसायुक्त उत्पादों से बचें।
  • दूसरे, रेड मीट, सीफूड, फैटी फिश, पोर्क, लैंब और बीफ। तीसरा, बेकरी और तले हुए उत्पादों से बचें।
  • इसके अलावा, इन उत्पादों को अपने आहार में कम से कम मात्रा में उपयोग करें जैसे दालें, राजमा, पालक, टमाटर, फूलगोभी, मशरूम, मटर, भिंडी, पनीर और तले हुए चावल।

अर्थराइटिस से ग्रसित इंसान ऐसा रखे अपना डाइट चार्ट:-

हम आपको अर्थराइटिस बीमारी में उपयोग किये जाने वाले आहार की जानकारी देने वाले हैं, इसमें रोगी के लक्षण और कारणों को जानकर परिवर्तन भी किया जा सकता है| इसलिए इसके उपयोग से पहले किसी वैद्य से सलाह अवश्य कर लें|

* सुबह उठते ही एक गिलास गुनगुने पानी में एक नींबू का रस मिलाकर रोजाना सेवन करें|
* नाश्ते में आप दो फुल्का रोटी हरी सब्जी के साथ या भुना हुआ एक अंडा बिना जर्दी के, बेसन का एक चिला बनाकर या फिर रोजाना एक उबला हुआ अंडा बिना जर्दी के सेवन कर सकते हैं|
* दिन में 11 से 12 के बीच में आप अनानास, सेब, और चेरी जूस के रूप में या फिर काट कर खा सकते हैं, इसके अलावा दही के साथ एक कटोरी रात को भिगोए हुए काले चने का उपभोग भी कर सकते हैं| अगर ये सब न मिले तो देसी गाय का दूध हल्का गर्म रोजाना सेवन करना फायदेमंद रहता है|
* दोपहर के समय में अर्थराइटिस रोगी एक कटोरी हरी सब्जी के साथ 2 रोटी, थोड़े से चावल और सलाद का सेवन कर सकता है|
* शाम को इस बीमारी से परेशान व्यक्ति एक कप दही, देसी गाय के दूध की चाय के साथ दो बिस्किट या फिर एक गिलास दूध के साथ 2 से 3 अखरोट खा सकता है|
* रात के भोजन में आप हरी लौकी की सब्जी, 2 से 3 रोटी या फिर बीन्स की सब्जी के साथ जौ की रोटी का सेवन कर सकते हैं|

ध्यान देने योग्य बातें:–

निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखकर आप अर्थराइटिस या गठिया रोग से बच सकते हैं|

* इस बीमारी के रोगी रोजाना 7 से 8 घंटे की नींद जरुर पूरी करें।
* हमेशा तनाव मुक्त रहें और खुश रखने की कोशिश करें|
* हमेशा कोशिश करें कि एक ही स्थिति में खड़े या बैठे न रहें।
* सूर्योदय से पहले उठकर 3 से 4 किलोमीटर चलें|
* दिनचर्या में व्यायाम को महत्वपूर्ण स्थान दें|
* ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन करें|
* भोजन पकाने में जैतून के तेल का उपयोग करें|

इन खाद्य पदार्थों के सेवन से बचें:–

अर्थराइटिस से परेशान व्यक्ति अगर निम्नलिखित खाद्य पदार्थों के सेवन से दूर रहे तो अच्छा रहता है|

* नमक का उपयोग हमेशा खाने में कम करें|
* लाल मांस और सी फूड के सेवन से बचना चाहिये|
* घी का उपयोग हमेशा वैद्य की सलाह लेकर करें|
* शरीर में इंसुलिन की मात्रा संतुलित बनाए रखें|
* डेयरी उत्पाद या फिर डिब्बाबंद खाने का सेवन भूलकर भी न करें|
* शराब, धूम्रपान और नशीले पदार्थों से दूरी बनाएं|

अर्थराइटिस या गठिया को दूर करने के कुछ घरेलू उपाय:-

  • लहसुन का सेवन लाभकारी – अगर सुबह खाली पेट लहसुन की 2 से 3 कलियाँ सेवन कर ली जाए तो यह प्रयोग रक्त विकारों के अलावा गठिया दर्द को दूर करने में सहायक साबित होता है|
  • नींबू पानी फायदेमंद – आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इसके अंदर एंटीवायरल और एंटी फंगल गुण पाए जाते हैं जो शरीर में वात दोष को संतुलित बनाए रखते हैं| गठिया रोगी अगर रोजाना एक गिलास गुनगुने पानी में एक नींबू का रस मिलाकर सेवन करे तो बहुत फायदा मिलता है|
  • एलोवेरा भी असरदार औषधि – आयुर्वेद में एलोवेरा को त्वचा रोगों की रामबाण औषधि माना गया है| अगर गठिया से परेशान व्यक्ति दर्द वाली जगह पर रोजाना इसका इस्तेमाल करे तो काफी जल्दी आराम पहुंचता है|
  • अश्वगंधा चूर्ण के अनेक फायदे – इस औषधि को आयुर्वेद में हड्डियों को मजबूती प्रदान करने के लिए जाना जाता है| सुबह और शाम एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण को देसी गाय के दूध के साथ सेवन करने से गठिया की समस्या जल्दी दूर हो जाती है|
  • तिल का तेल रामबाण – अर्थराइटिस रोगी के लिए यह तेल रामबाण माना जाता है| इसका उचित प्रयोग हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है और आप गठिया जैसी बीमारी से बचे रहते हैं|

Note: Also, use our Dardorest Oil And Spray  for muscle and Joint Pains.

Uri Nashak Medicine on Amazon 

3 reviews for Uri Nashak Ayurvedic Capsules

  1. Jaya Mehra

    I have to try it for a longer time. But it seems to be helping akready

  2. ASHOK V.

    This medicine works good.

  3. abhishek kumar das

    Extremely effective. You will start feeling the result within 10 days. Effective in joint pain and redness.

Add a review

Your email address will not be published.

Scroll to Top